Agriculture

Pacific University

Agro-advisory for Udaipur district

Period: 23rd  May 2018 to 27th May, 2018

Weather forecast valid up to 27th May, 2018
There is possibility of clear weather during next five days. South Westerly to Westerly winds with the speed of 8 to 12 kmph are expected during next five days. The expected maximum temperature will be 44 to 45°C and expected minimum temperature will be 28 to 29°C during next five days. The maximum relative humidity will be in between 41 to 46 and minimum relative humidity 7 to 9%.
Agroadvisory for the coming week
Cotton : Sowing of cotton may be done in this week. Insure sufficient moisture before starting sowing. Farmers are advised to procure good quality seeds from certified source. Recommended varieties: MRC 7017, MRC 7365, NCS 855 Jai, JKCH 99, SP 7149 KCHH 8152 and KCHH 932.
Okra : After harvesting of mature okra, application of urea @ 5-10 kg/ acre should be done. Constant monitoring of crop against attack of mite is advised. If population is above ETL then, spraying of Ethion @ 1.5-2 ml/litre of water is advised. Due to prevailing high temperature, light irrigation at short interval is advised when sky is clear
General : Keeping in view of temperature, farmers are advised for light irrigation as per requirement in all vegetable and standing crops. Irrigation should be done in the morning hours or in the evening hours.
*For green manure, sowing of green gram, cluster bean, senai, gwar etc may be done during this week. Seed rate for sanai is 60-70 kilogram and that of dhaicha is 50-60 kilogram per hectare. For adequate germination proper moisture should be maintained.
*Sowing of fodder crops (gwar, maize, bajra, cluster bean) may be done during this week. Adequate moisture should be maintained for maximum germination of seeds. Sowing should be done at a depth of 3-4 cm and at row to row spacing of 25-30 cm.
*Field preparation should be done for sowing of pigenpea and cotton in this week. Farmers are advised to procure good quality seeds from certified source.
Brinjal and Tomato : To control shoot and fruit borer in brinjal and tomato crops, infested fruits and shoots should be collected and buried inside the soil. If pest population is high, spraying of Spinosad 48 EC @ 1 ml /4 litres of water is advised when sky is clear.
Cucurbitaceous crops : Optimum moisture level should be maintained in cucurbitaceous crops by light and frequent irrigation as dry conditions may lead to poor pollination and thus drop in yield of the crop.

 

 

उदयपुर के लिए मौसम आधारित कृषि परामर्श

27 मई,  2018 तक मौसम का पूर्वानुमान
मौसम विज्ञान विभाग, जयपुर से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर आगामी 4 दिनों में उदयपुर जिले में मौसम साफ रहने की संभावना है। हवा की गति 8 से 12 किलोमीटर प्रतिधण्टा के वेग से दक्षिण पश्चिमी से पश्चिमी दिशा से चलने तथा अधिकतम तापमान 44 से 45 एवं न्यूनतम 28 से 29 डिग्री से. रहने के साथ साथ वायु में आर्दता की मात्रा अधिकतम 41 से 46 प्रतिशत तक एवं न्यूनतम 7 से 9 प्रतिशत रहने की सम्भावना है।

 

अगले पांच दिनों के मौसम के आधार पर किसान भाईयों को कृषि सलाह
कृषि सलाह
1 कपास: कपास की बुवाई इस सप्ताह कर सकते है । बुवाई से पहले खेत में पर्याप्त नमी होना आवश्यक है । बीज किसी प्रमाणित स्त्रोत से खरीदे । उपयुक्त किस्मे है एम. आर. सी. 7017, एम. आर. सी. 7365, ऐन. सी. ऐस. 855, जय, जे के सी एच 99, ऐस पी 7149, के सी एच एच 8152 एवं के सी एच एच 932
2 भिंडी की फसल में तुड़ाई के बाद यूरिया 5 से 10 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से डाले तथा माईट कीट की निरंतर निगरानी करते रहे। अधिक कीट पाए जाने पर ईथीयाँन 1.5 से 2 मिलीलीटर प्रति पानी की दर से छिड़काव आसमान साफ होने पर करें। इस मोसम में भिंडी की फसल में हल्की सिंचाई कम अंतराल पर करें।
3 तापमान का ध्यान में रखते हुए सभी सब्जियों तथा खड़ी फसलों में आवश्यकतानुसार हल्की सिंचाई करें। सिंचाई सुबह या शाम के समय ही करें।
4 ग्रीष्मकाल हरी खाद के लिए सनई, ढैचा, ग्वार, लोबिया, मूंग आदि की बुवाई कर सकते हैं। सनई की बीज दर 60-70 और ढैचा की 50-60 किलोग्राम प्रति हैक्टर। अच्छे अंकुरण के लिए खेत में पर्याप्त नमी होनी आवश्यक है।
5 ग्वार, मक्का, बाजरा, लोबिया आदि चारा फसलों की बुवाई इस सप्ताह कर सकते हैं। बुवाई के समय खेत में पर्याप्त नमी होनी आवश्यक है। बीजों को 3-4 से.मी. गहराई पर डालें और पंक्ति से पंक्ति की दूरी 25 से 30 से.मी. रखें।
6 किसान अरहर और कपास की बुवाई के लिए खेतों को तैयार करें तथा बीज किसी प्रमाणित स्रोत से ही खरीदें।
7 बैंगन टमाटर की फसल को प्ररोह एवं फल छेदक कीट से बचाव हेतु ग्रसित फलों तथा प्रोरहो को इकट्ठा कर नष्ट कर दें। यदि कीट की संख्या अधिक हो तो स्पिनोसेड कीटनाशी 48 ई.सी. 1 मिलीलीटर प्रति 4 लीटर पानी की दर से छिड़काव आसमान साफ होने पर करें।
8 इस मौसम में बेल वाली फसलों में न्यूनतम नमी बनाएं रखें अन्यथा मृदा में नमी होने से परागण पर असर हो सकता है जिससे फसल उत्पादन में कमी आ सकती है

 

Download Admission Form

Download Souvenir

Further Queries:
Contact:9929222551
Email:agri@pacific-university.ac.in
 
Course Eligibility Duration
B.Sc.(Hons.) Agriculture 10+2 pass (Science+Maths/Bio/Agriculture) 4 Years.
M.Sc. Agronomy/Genetics & Plant Breeding B.Sc.(Agriculture) 2 Years
Ph.D M.Sc. (Agriculture) in Respective Disciplines 3 Years.
Enquire for your reliable future @Pacific University

Primary Contacts

Pacific University

Pacific Hills, Pratapnagar Extn.,
Airport Road, Debari, Udaipur - 313003

Phone : +91-294-3065000,
Mobile : +91 96729 70940, +91 9672927863

Email: info@pacific-university.ac.in
Website: www.pacific-university.ac.in

Photo Gallery

pacific-gallery

Like Us on Facebook



Copyrights © 2016. Pacific-university.ac.in. All Rights Reserved.